अकबर के बारे मे कुछ गजब फैक्ट (some fact about Akbar)

भारत के इतिहास में जब भी महान राजाओं की बात होती है तब उसमे एक नाम सबसे ऊपर आता है और वह नाम है अकबर . अकबर (Akbar) को मुग़लो में भी सबसे योग्य और प्रसिद्ध माना जाता है.

वह अकबर ही था जिसने सभी धर्मो को मिलाकर एक नया धर्म बनाया जिससे सभी के साथ समान व्यवहार हो. अकबर अपनी प्रजा हिन्दू और मुसलमान दोनों से ही बहुत प्रेम करता था. अकबर मात्र 13 साल की उम्र में ही राजा बन गया था जिसने अपना राज्य का कामकाज सफलतापूर्वक पूरा किया. आइये पढ़े – शंहशाह अकबर  के जीवन के गजब फैक्ट.

 

अकबर के बारे मे गजब फैक्ट:-

1- अकबर को अकबर-ऐ-आज़म, शहंशाह अकबर व महाबली शहंशाह के नाम से भी जाना जाता है.

2- अकबर का पूरा नाम बदरुद्दीन मुहम्मद अकबर था.

3- अकबर का जन्‍म 15 अक्‍टूबर सन 1542 ई० में अमरकोट के राजा वीरशाल के महल में हुआ था.

4- अकबर के पिता का नाम हुमायॅू और माता हमीदा बानू बेगम था.

5- अकबर को 9 वर्ष की उम्र में गजनी का सूबेदार नियुक्‍त किया था.

6- सिकन्‍दर सूरी के सरहिन्‍द को छीन लेने के बाद हुमायूँ ने सन 1555 ई० अकबर को अपना युवराज घोषित किया था.

7- पिता की म्रत्यु के बाद अकबर के संरक्षक बैरम खॉ ने पंजाब स्थित गरूदासपुर में 14 फरवरी 1556 ई० को अकबर का राज्याभिषेक करवाया था.

8- जलालुद्दीन मुहम्‍मद अकबर बादशाह गाजी की उपाधि से राज सिंहासन पर बैठा था.

9-  राज्याभिषेक के समय अकबर की उम्र मात्र 13 साल थी और वह नाबालिक शासक था.

10- अकबर ने सम्राट बनने के बाद बैरम खॉ को बजीर नियुक्‍त किया और उन्‍हें खान-ए-खाना की उपाधि प्रदान की.

11- पानीपत की दूसरी लडाई 1556 ई० को हेमू और अकबर के बीच लडी गई थी.

12- इस लड़ाई में हेमू की ऑख में तीर लग गया था जिस कारण उसकी पराजय हुई.

13- अकबर ने बुलन्‍द दरवाजा का निर्माण करवाया था.

14- सन 1571 ई० में अकबर ने फतेहपुर सीकरी नामक नगर की स्‍थापना की.

15- अकबर ने ही सन 1582 र्इ० दीन-ए-इलाही नामक धर्म बनाया.

16- सन 1576 में हल्‍दीघाटी का युद्ध हुआ जिसमे महाराणा प्रताप और अकबर के बीच लड़ाई में अकबर की जीत हुई थी.

17- दीन-ए-इलाही धर्म को स्‍वीकार करने वाला प्रथम एवं अंतिम हिन्‍दू शासक बीरवल था.

18- अकबर के दरबार में नौ रत्‍न थे – बीरबल, अबुल फजल, टोडरमल, तानसेन, मानसिंह, रहीम खानखाना, मुल्‍ला दो प्‍याजा, हकीम हुकाम और फैजी.

19- अबुल फजल ने अकबरनामा ग्रंथ की रचना की.

20- हिन्दी साहित्य का स्वर्णकाल Akbar के शासनकाल में ही माना जाता है.

21- अकबर आजीवन निरक्षर रहा. उसने कभी भी शिक्षा प्राप्त नही की.

22- भारतीय इतिहास में अकबर का नाम काफी प्रसिद्ध है. उसने सभी धर्मो का सम्मान किया था.

 

23- अकबर भले ही पढ़ा – लिखा नहीं था पर वह स्मरण शक्ति का धनी था. वह जो भी सुनता था उसे याद रहता था. जिस कारण वह बहुत ज्ञानी था.

24- अकबर ने अपने शासन काल में यात्री कर और जजीया कर को समाप्‍त किया था.

 

25- अकबर की मृत्यु अतिसार रोग के कारण सन 1605 ई. को हुई थी. अकबर का शासनकाल सन 1556 से 1605 तक रहा.

 

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *